COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna
COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

शुक्रवार, 14 नवंबर 2014

भाजपा सरकार में ब्राह्मण फर्स्ट : मोदी

न्यूज@ई-मेल
पटना : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि भाजपा सिर्फ ब्राह्मण-बनियों की पार्टी नहीं है। लेकिन, सत्ता संभालते ही उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि भाजपा सरकार में ब्राह्मण फर्स्ट। बिहार विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी आज जनता दरबार के बाद पत्रकारों से चर्चा में नरेंद्र मोदी सरकार के सामाजिक संतुलन व भागीदारी की बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार में दर्जन भर ब्राह्मण मंत्री हैं। निषाद समाज से साध्वी निरंजना को मंत्री बनाया गया है। पांच मंत्री दलित समाज से हैं। श्री मोदी ने कहा कि कई मंत्रियों के सरनेम से जाति का पता ही नहीं चलता है। केंद्र सरकार में अभी 66 मंत्री हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर ही मंत्रिमंडल में सामाजिक समीकरण नहीं बनाने का आरोप लगाया और कहा कि सरकार में कोई वैश्य समाज का मंत्री नहीं है।

नीतीश की टिप्स पर शासन चला रहे हैं मांझी

पटना : मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा है कि वह नीतीश कुमार की टिप्स और परामर्श से राज चला रहे हैं। आज पटना में जनता दरबार के बाद पत्रकारों से चर्चा में उन्होंने बताया कि उनके व पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच कोई मतभेद नहीं है। नीतीश नीतियों के निर्धारण के संबंध में टिप्स देते हैं और हम उसी के अनुकूल काम करते हैं। श्री मांझी ने कहा कि नीतीश जी को उनपर भरोसा है। वह उनके ही कार्यों को आगे बढ़ा रहे है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नीतीश जी संगठन का काम देख रहे हैं और हम सरकार का कामकाज देख रहे हैं। मतभेद जैसी कोई बात नहीं है।

संपर्क यात्रा में मंत्रियों की ‘नो इंट्री’

पटना : पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सरकार से हटने के बाद एकबार फिर जनता के बीच जा रहे हैं। 13 नंवबर से शुरू हो रही संपर्क यात्रा इस मायने में महत्वपूर्ण है कि इसमें मंत्रियों की ‘नो इंट्री’ लगा दी गयी है। जबकि पहले की यात्राओं में ‘भीड़ और भात’ की व्यवस्था का जिम्मा संबंधित जिले और जिले के प्रभारी मंत्री की होती थी। लेकिन, इस बार हालात बदले हुए हैं। हालांकि ‘चुपका सपोर्ट’ से किसी को परहेज नहीं है। पिछले दिनों विशेष राज्य के दर्जे के लिए पटना समेत जिला मुख्यालयों में आयोजित धरना से भी मंत्रियों को अलग रखा गया था, जिसे नीतीश कुमार और जीतन राम मांझी के बीच टकराव के रूप में देखा गया था।
वीरेन्द्र कुमार यादव पत्रकार हैं।