COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna
COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

सोमवार, 1 जून 2015

नौजवान पागल

 हुल्लड़ मुरादाबादी की हास्य व्यंग्य कविताएं 
Hullad Muradabadi
एक नौजवान पागल
जब पागलखाने से लौटकर आया
ते उसके मां बाप ने
बहुत आनन्द मनाया
नौजवान ने महसूस किया
तेजी के साथ बढ़ती हुई
गरीबी की बीमारी
महंगाई की चक्की में
पिसते हुए नर-नारी
हर तरफ फरेब, बलात्कार
और हत्याएं
शर्मिन्दा होती हुई
कुरान की आयत
और वेदों की ऋचाएं
उसने सोचा
क्या जमाना है
इससे अच्छा तो अपना
पगलखाना है
यहां अपमान के अलावा
अपना कहने वाला कोई नहीं
भीगी-भीगी आंखें
कई रात सोई नहीं
उसकी छोटी बहन की हुई शादी
और दहेज के अभाव में
उसके पति ने
ठीक रक्षा बन्धन के दिन
उसकी चिता जला दी
उसे यह सदमा कचोट गया
और वह सूनी कलाई लिये
फिर से पागलखाने
लौट गया।

प्रोड्यूसर और जिन

एक प्रोड्यूसर की पांचवी फिल्म थी
जब सुपर फ्लाप हुई
तो उसका सर चकरा गया
आत्महत्या के लिए जुहू आ गया
समन्दर में जैसे ही छलांग लगाई
एक बोतल उसके शरीर से टकराई
उसने जैसे ही बोतल का ढक्कन खोला
उसमें से एक जिन
निकलकर बोला -
”क्या हुक्म है मेरे आका ?“
प्रोड्यूसर बोला - ”तुम्हारे जैसे कई जिन
मैंने फिल्मों में दिखाए हैं
आप वहीं चले जाइये
जहां से आए हैं।“
जिन बोला - ”मैं फिल्मी नहीं हूं
इल्मी जिन हूं, वायदा निभा दूंगा
जो भी हुक्म देंगे
करके दिखा दूंगा।“
प्रोड्यूसर बोला - ”ऐसा है तो जाओ
मेरे लिये पांच बोतल
स्काॅच लेकर आओ
और साथ में जाने जाना
कोई चुलबुली-सी बुलबुल
भी लेते आना।“
जिन ने पांच सैकिण्ड में
सब हाजिर करके
निर्माता की तरफ ताका
”अब क्या हुक्म है मेरे आका ?“
निर्माता सोचने लगा
यह जिन यहां से जाए
तो अपन बुलबुल से मन बहलाए
प्रोड्यूसर बोला - ”जाओ नाईजीरिया से
पचास फुट ऊंचा जिराफ
अफ्रीका से शेरनी का दूध
और आस्ट्रेलिया की
काली भेड़ के
सफेद बाल लेकर आओ।“
उसने सोचा, यह फाॅरन कनट्री जाएगा
तो एक हफ्ते से पहले तो
क्या ही वापिस आएगा !
प्रोड्यूसर गश खा गया
वो जिन तो सारी चीजें लेकर
पांच मिनट में ही आ गया
अचानक निर्माता के दिमाग में
आइडिया आया
उसने हुक्म सुनाया -
”पूरी दुनिया में कोई ऐसा
नेता ढूंढकर लाओ
जो राजा हरिश्चन्द्र के समान
सत्यवादी हो
जो महात्मा गांधी जैसा
ईमानदार हो
जो मदर टैरेसा के समान
गरीबों का मददगार हो
जो औरों के लिए विष पीता हो
जो अपने लिये नहीं
देश के लिए जीता हो।“
पूरे पांच साल हो गए
जनाबे जिन
वापिस नहीं आ रहे हैं
और प्रोड्यूसर साहब
अब भी बुलबुल के साथ
मजे उड़ा रहे हैं।