COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna
COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

शुक्रवार, 11 दिसंबर 2015

कंचन पाठक को मिला आगमन तेजस्विनी सम्मान

 न्यूज@ई-मेल 
पटना : 
सुनो दीपक दीप्त प्यारे, 
तम निशि में ज्योत न्यारे, 
तुम जो जलते हो निरन्तर, 
पंथ ज्योतित ज्वलित अन्तर,
बिन मेरे क्या जल सकोगे, 
दो कदम भी चल सकोगे।
उपरोक्त गीत के माध्यम से युवा कवयित्री कंचन पाठक ने ढेरों तालियां बटोरीं। अवसर था नोएडा सेक्टर 50 स्थित नीलगिरी हिल्स पब्लिक स्कूल के महाराणा प्रताप ऑडिटोरियम में साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समूह आगमन के वार्षिक सम्मान समारोह और कस्तूरी कंचन काव्य संग्रह के लोकार्पण का। इस मौके पर देश-विदेश के सभी उम्र के कवियों-कवयित्रियों को आमंत्रित किया गया था। सुनो दीपक ... नामक कविता का पाठ करके कंचन पाठक ने वहां उपस्थित समस्त कवियों और श्रोताओं पर अपनी गहरी साहित्यिक समझ की छाप छोड़ी तथा अपनी विशिष्ठ लेखन शैली से भी परिचित कराया। इस मौके पर उन्हें आगमन तेजस्विनी सम्मान से भी सम्मानित किया गया। 
दो भागों में सम्पन्न हुए इस समारोह में आगमन भूषण सम्मान, आगमन अमृता प्रीतम सम्मान, आगमन दुष्यंत कुमार सम्मान, आगमन तेजस्विनी सम्मान, आगमन गौरव सम्मान, आगमन साहित्य सम्मान, व आगमन कस्तूरी कंचन सम्मान 2015 प्रदान किये गये। जहां मंच का संचालन अल्पना सुहासिनी और अरुण सागर ने किया, वहीं मुख्य अतिथि थे जनाब गुलजार देहलवी, अध्यक्ष पं. सुरेश नीरव और विशिष्ट अतिथि डाॅ. कुवंर बैचेन, डाॅ. सरिता शर्मा, लक्ष्मी शंकर बाजपेयी, जनाब मासूम गाजियाबादी, डाॅ.अशोक मधुप, डाॅ. आलोक यादव, डाॅ. जयप्रकाश मिश्र, अयोध्या प्रसाद भंवर, पवन जैन। इस मौके पर मनीषा जोशी, रश्मि जैन, आजम हुसैन, शिवानी शर्मा, सीमा शर्मा, तुलिका सेठ, मनोज कामदेव, सविता वर्मा गजल, डॉ. स्वीट एंजेल एवं कंचन पाठक समेत अन्य कई जाने-माने कविगण उपस्थित थे। कुल मिलाकर यह एक खुशनुमा काव्यमय संध्या रही।
कंचन पाठक