COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna
COPYRIGHT © RAJIV MANI, Journalist, Patna

शनिवार, 2 अप्रैल 2016

नेताजी से संबंधित 50 और फाइलें ऑनलाइन

 खास खबर 
नेताजी सुभाष चंद्र बोस से संबंधित 50 और फाइलें संस्कृति और पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. महेश शर्मा ने वैब पोर्टल www-netajipapers-gov-in पर ऑनलाइन जारी कीं। इन 50 फाइलों में से 10 फाइलें प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ), 10 फाइलें गृह मंत्रालय और 30 फाइलें विदेश मंत्रालय की हैं। ये फाइलें 1956 से 2009 तक की अवधि की हैं।
उल्लेखनीय है कि इससे पहले प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 23 जनवरी, 2016 को नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 119वीं जयंती के अवसर पर नेताजी से संबंधित 100 फाइलें प्रारंभिक संरक्षण उपचार और डिजिटीकरण के बाद सार्वजनिक की थीं।
जनता द्वारा निरंतर रूप से नेताजी की फाइलों तक पहुंच बनाने की मांग की जाती रही है, इन अतिरिक्त  50 फाइलों को जारी करके इस मांग को और पूरा किया जा रहा है। साथ ही इनकी बदौलत विद्वानों को स्वाधीनता संग्राम के इस नायक पर विस्तृत शोध करने में सहायता मिलेगी। इन फाइलों की समीक्षा विशेष रूप से गठित समिति ने की है। इस समिति के सदस्यों में पुरातत्व क्षेत्र से संबंधित विशेषज्ञ शामिल हैं। समिति ने निम्नलिखित पहलुओं पर गौर किया है -
  • फाइलों की हालत का पता लगाना और जहां आवश्यकता हो वहां संरक्षण इकाई के माध्यम से मरम्मत और संरक्षण करना।
  • वेब पोर्टल www-netajipapers-gov-in पर अपलोड करने के लिए डिजिटिकरण की गुणवत्ता की जांच करना।  
  • इस बात की पड़ताल करना कि कहीं इन फाइलों में किसी भी तरह का डुप्लीकेशन तो नहीं है।
  • ये फाइलें शोधकर्ताओं और आम जनता के उपयोग के लिए इंटरनेट पर जारी की जा रही हैं।

उल्लेखनीय है कि 1997 में राष्ट्रीय अभिलेखागार, भारत को रक्षा मंत्रालय से आजाद हिंद फौज से संबंधित 990 फाइलें प्राप्त हुईं, जिन्हें गोपनीयता की श्रेणी से हटा दिया गया था। इसके बाद 2012 में गृह मंत्रालय से 1030 फाइलें / वस्तुएं-खोसला आयोग से संबंधित  (271 फाइलें / वस्तुएं) और न्यायमूर्ति मुखर्जी जांच आयोग (759 फाइलें / वस्तुएं) प्राप्त हुईं। ये सभी फाइलें और वस्तुएं सार्वजनिक रिकॉर्ड नियम, 1997 के अंतर्गत जनता के लिए पहले से ही खुली हैं।

वृंदावन में ‘एक हजार विधवाओं के आवास’ की परियोजना का शुभारम्भ

केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गांधी ने मथुरा के वृंदावन में एक हजार विधवाओं के लिए विशेष आवास के निर्माण की परियोजना का शुभारम्भ किया। श्रीमती मेनका संजय गांधी ने उत्तर प्रदेश की महिला कल्याण मंत्री श्रीमती सैयदा शादाब फातिमा भी उपस्थिति में इस आवास की आधार शिला रखी। यह आवास महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ‘स्वाधार गृह योजना’ के अंतर्गत बनाया जा रहा है। यह आवास विधवाओं के लिए सरकार द्वारा स्थापित अथवा वित्त पोषित अब तक का सबसे बड़ा आशियाना होगा। 
इस अवसर पर श्रीमती मेनका संजय गांधी ने कहा कि यह आवास इस साल अक्टूबर तक पूरी तरह से बनकर तैयार हो जायेगा। यह आवास अलग प्रकार का होगा क्योंकि यहां पर विधवाओं को सीखने और कौशल विकास करने का अवसर मिलगा ताकि वे अपने समय का सदुपयोग करने में सक्षम हो सकें।
इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की महिला कल्याण मंत्री श्रीमती सैयदा शादाब फातिमा ने कहा कि वृंदावन में 4,500 विधवाएं रहती हैं और निर्माणाधीन आवास से एक ही समय में एक हजार विधवाओं को आश्रय मिल सकेगा, जो एक सराहनीय प्रयास है।